स्वतंत्रता दिवस पर हिंदी भाषण, निबंध, महत्व, शायरी, कविता | स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं

स्वतंत्रता दिवस पर हिंदी भाषण, निबंध, महत्व, शायरी, कविता | स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं : सबसे पहले, सभी स्वतंत्र आत्माओं के लिए एक बहुत खुश स्वतंत्रता दिवस। भारत की स्वतंत्रता के 69 वें सालगिरह के गवाह करने के बाद अंग्रेजों अगस्त, 1947 की 15 तारीख को देश छोड़ दिया जा रहा है।

स्वतंत्रता दिवस पर हिंदी भाषण, निबंध, महत्व, शायरी, कविता | स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं


स्वतंत्रता दिवस पर निबंध


तब से भारत विभिन्न मोर्चों और भारत को एक वैश्विक स्तर पर आकर्षण का केंद्र रहा है में बहुत प्रगतिशील किया गया है। हम सिर्फ स्वतंत्रता सेनानियों को जो आदेश ऐसा करने के लिए में आगे चलने की वजह से इस स्वतंत्र वातावरण में रह रहे हैं। तो, उन्हें एक सच्ची श्रद्धांजलि भुगतान के बिना एक स्वतंत्रता दिवस समारोह मतलब है। उन बहादुर आत्माओं और शहीदों जो हमारे लिए लड़े और हमें सबसे अद्भुत उपहार कभी दिया था याद करते हैं।

यहाँ कुछ स्वतंत्रता दिवस के उद्धरण जो उल्लेख करने के लिए योग्य हैं, क्योंकि वे प्रेरित और प्रेरित स्वतंत्रता martiars वापस तो और अभी भी फिर से भारत एक सोने की चिड़िया बनाने के लिए हमें प्रेरित कर रहे हैं।

स्वतंत्रता दिवस पर शायरी


ज़माने भर में मिलते हे आशिक कई ,
मगर वतन से खूबसूरत कोई सनम नहीं होता,
नोटों में भी लिपट कर,
सोने में सिमटकर मरे हे कई,
मगर तिरंगे से खूबसूरत कोई कफ़न नहीं होता |

गंगा यमुना यहाँ नर्मदा,
मंदिर मस्जिद के संग गिरजा,
शांति प्रेम की देता शिक्षा,
मेरा भारत सदा सर्वदा |

दे सलामी इस तिरंगे को जिस से तेरी शान हैं,
सर हमेशा ऊँचा रखना इसका जब तक दिल में जान हैं |

संस्कार और संस्कृति की शान मिले ऐसे,
हिन्दू मुस्लिम और हिंदुस्तान मिले,
ऐसे हम मिलजुल के रहे ऐसे की,
मंदिर में अल्लाह और मस्जिद में राम मिले जैसे |

मैं भारत बरस का हरदम अमित सम्मान करता हूँ
यहाँ की चांदनी मिट्टी का ही गुणगान करता हूँ,
मुझे चिंता नहीं है स्वर्ग जाकर मोक्ष पाने की,
तिरंगा हो कफ़न मेरा, बस यही अरमान रखता हूँ।


, देखभाल के साथ किया गर्व के साथ लेपित,
प्यार में डूबा, महिमा में उड़
खुशी की छाया में स्वतंत्रता के क्षण।
गर्व एक भारतीय होने के लिए।
स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं।

के इस फैसले लेते हैं,
हमारे देश के मूल्य के लिए,
बलिदान नहीं भूलना चाहिए
कौन हमें आजादी दे दी है।
अब यह एक सुधार के लिए हमारी बारी है
स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं

स्वतंत्रता दिवस पर हिंदी भाषण


मन में स्वतंत्रता,
शब्दों में विश्वास ..
हमारी आत्मा में गर्व ..
राष्ट्र को सलाम करते चलें
वन्दे मातरम।

हमारा जीवन रंगों से भरा है।
मैं इस 15 वीं अगस्त आपके जीवन को और अधिक रंग जोड़ने जाएगा उम्मीद है।
स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं

हजारों तो उनके जीवन को निर्धारित
हमारे देश में इस दिन साँस ले रहा है कि
कभी उनके बलिदान को भूल जाओ।
स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं।



स्वतंत्रता दिवस पर कविता 


भारत मा के अमार सपूटों,
पाठ पर आयेज बढ़ाते जाना.
पार्वत नदियाँ और समांडर,
हंस कर पाआया साभी कर जाना.
तुममे हिंगिरि की उँचाई,
सागर जैसी गहराआए है.
लहरों की मस्ती हाई तुम में,
सूरज जैसी तरुनाआई है.
भगत सिंग, राणा प्रताप का,
बहता रक्त तुम्हाअरए टन में,
गौतम, गाँधी, महावीर सा,
रहता सत्या तुम्हाअरए मान में.
संकट आया जब धरती पर,
तुमने भीषण संगराअँ किया.
मार भगाया दुश्मन को फिर,
जाग में अपना नाम किया.
आने वाले नये विषव में,
तुम भी कुच्छ कर के दिखलाना.
भारत के उन्नत ललाट को,
जाग में उँचा और उठाआना.


________________________



स्वतंत्रता दिवस अमर रहे
वही पूरब है, वही पासचिं है,
वशी उत्तर है वही दक्षिण,
टुकड़े-टुकड़े मेरी धरती के,
नही भूलता मई वो क्षण.
कैसे बीते पता नही है,
67 वर्ष आज़ादी के.
आज़ाद हिन्दुस्तान कैसा होगा,
सपने हर एक मानव के.
जान-जान में गूँजता नाम है,
भारत के वियर शहीदों का.
आज भी ऐसी वियर शहीदी,
भुला ना सकता हिन्दुस्तान.
कारवाँ की पकड़ी डगर ऐसी,
गृहत्याग बलिदान किया.
मातृभूमि को शीश चढ़ने,
वीरों ने कैसा प्राण लिया.
अहिंसा के बाल गाँधी कूड़े,
राजनीति नेहरू जी की.
सुभाष चंदर, शेखर जैसों ने,
लाज बचाई भारत की.
राजगुरु, बतुकेश्वर डट भी,
शहीद हो गये इस रन में.
अमर शहीदी तभी बची है,
स्वतंतरा भारत के कन-कन में.
चले गये अंग्रेज छ्चोड़ देश,
अपनी धरती तोड़ गये.
भारत और पाकिस्तान बनाकर,
फिर से झगड़ा जोड़ गये.
“अंग्रेज़ो भारत छ्चोड़ो”,
“जाई हिंद” हमारा नारा था.
भारत की धरती गूँज उठी,
जान-जान ने यही पुकारा था.
आओ आज फिर से हम,
उन्ही पलों को याद करें.
यह शुभ दिन अमर रहे,
बार-बार फरियाद करें.
“जाई हिंद” “जाई भारत” बोलो,
देशभक्ति में अमृत घोलो.
स्वतराता दिवस अमर रहे,
हिन्दुस्तानी दिल से बोलो.


स्वतंत्रता दिवस ka महत्व



"कहाँ मन डर के बिना है
और सिर उच्च आयोजित किया जाता है;
जहां ज्ञान मुक्त है;
जहाँ दुनिया नहीं किया गया है
द्वारा टुकड़ों में टूट
संकीर्ण घरेलू दीवारों;
जहां शब्द से बाहर आ गए
सत्य की गहराई;
कहाँ अथक प्रयास हिस्सों
पूर्णता की ओर अपने हथियार;
कहाँ कारण की स्पष्ट धारा
सुनसान में अपना रास्ता नहीं खोया है
मृत आदत के रेगिस्तान रेत;
जहां मन तेरे नेतृत्व आगे है
कभी चौड़ा सोचा और एक्शन में
स्वतंत्रता की है कि स्वर्ग में, मेरे पिता,
मेरे देश के जाग जाने।


______________________________



मुझे आशा है कि आप सभी इस साल अगस्त में 15 के लिए सबसे अच्छा स्वतंत्रता दिवस कविताओं का संग्रह पसंद आया अपने शिक्षकों और दोस्तों को अपने स्कूलों में साथ साझा करने के लिए। स्वतंत्रता दिवस पर लघु कविताएं विभिन्न स्रोतों से एकत्र कर रहे हैं तुम्हारे लिए फेसबुक Whatsapp ट्विटर और अन्य सोशल नेटवर्किंग साइट्स के इस पृष्ठ को साझा करने के लिए भूल जाते हैं।


आने वाले खोज शब्द :
  • स्वतंत्रता दिवस
  • स्वतंत्रता दिवस पर हिंदी भाषण
  • स्वतंत्रता दिवस पर कविता
  • 15 अगस्त पर भाषण
  • स्वतंत्रता दिवस पर शायरी
  • स्वतंत्रता का महत्व
  • भारतीय स्वतंत्रता दिवस पर भाषण
  • 15 अगस्त पर कविता
  • स्वतंत्रता दिवस का महत्व
  • देश भक्ति पर शायरी
  • स्वतंत्रता दिवस पर शेर
  • स्वतंत्रता दिवस पर बाल कविता
  • स्वतंत्रता दिवस पर लेख
  • स्वतंत्रता दिवस पर नारे
  • स्वतंत्रता दिवस पर भाषण
  • 15 अगस्त पर कविता
  • आजादी की शायरी
  • भारतीय स्वतंत्रता दिवस पर भाषण
  • स्वतंत्रता दिवस पर शेर
  • स्वतंत्रता दिवस पर बाल कविता
  • स्वतंत्रता दिवस का महत्व